Sunday, August 6, 2017

Home remedies for dealing with asthma


Home remedies for dealing with asthma


Asthma


The asthma attack can completely stop the breathing tubes, which can stop the supply of oxygen to the vital organs of the body. Although it is better to treat asthma with a doctor's consultation, there are some effective home remedies to control asthma. These measures are quite beneficial. Let's learn about some similar home remedies.

Ginger and garlic


Both ginger and garlic are beneficial in the treatment of asthma. In the initial sta

celery


Asthma is destroyed after taking half cup of celery juice and adding the same quantity of water in it, after morning and evening meal. To prevent asthma, steam from celery is also beneficial. For this, add celery in water and boil it and take the steam rising from the water. It provides immediate relief in respiratory distress.


Honey


Honey is considered to be quite beneficial in asthma. Honey improves mucus, which causes asthma disorders. Sniffing of honey when attacking asthma also benefits Apart from this, mixing honey with three times a glass of lukewarm water can definitely help in asthma by drinking it.


Sahajan leaves


Seek comfortably by boiling water for about 5 minutes in water. When the mixture is lightly cooled, add salt, a quarter lemon juice and black pepper powder in it. This kind of decoction is considered to be a good treatment for asthma.

Fenugreek


Fenugreek is very helpful in repairing the inner allergy of the body. Boil some grains of fenugreek with a glass of water until the water is one-third. Mix honey and ginger juice in this water and eat it every morning and evening. You will have definite benefits. Patients of asthma can also eat fenugreek seeds.

Yoga


A person suffering from asthma should practice yoga and pranayama. For this, in the morning, keeping the spinal cord straight and breathing in open and clean air should leave and leave. This will digest food properly and the body will get full energy. It also improves lungs and respiratory processes.


Dry figs


Fig is a fruit which is as sweet as the beneficial. Dried fruits of fig are very useful. It also prevents cough from freezing. Keep dry figs soaked in hot water overnight. Eat it empty stomach in the morning. By doing so, the accumulated mucus in the breathing tube turns out loose. And it also provides relief from infection.


bitter gourd


Bitter gourd is rich in nutrient properties. It also has effective treatment of asthma. Mix one spoon paste of bitter gourd with honey and basil juice, it provides relief in asthma. It also provides relief from internal allergies.

green vegetables


People with asthma should eat food slowly, chew better and less than their capacity. Drink at least eight to ten glasses of water daily. Minerals like carbohydrate lubricant and protein should be taken in the diet and at least a minimum of fresh fruits, green vegetables and groundnut foods such as sprouted gram should be taken in plenty.


Oil massage


After asthma, massage with camphor in the mustard oil on the chest and spinal cord should be performed. Steam bath should also be done after a while after massage. By doing this daily, rest takes rest in asthma within a few days.

ge of asthma, it is useful to consume 5 grams of garlic in 30 ml milk by consuming this mixture daily. Besides, asthma can also be controlled by mixing two buds of garlic in hot tea of ​​ginger and drinking it twice a day.

अस्थमा से निपटने के घरेलू उपचार और नुस्खे?

अस्थमा से निपटने के घरेलू उपचार और नुस्खे


अस्‍थमा क्या है।


अस्‍थमा का अटैक पड़ने से श्वास नलिकाएं पूरी तरह बंद हो सकती हैं, जिससे शरीर के महत्वपूर्ण अंगों को आक्सीजन की आपूर्ति बंद हो सकती है। वैसे तो अस्‍थमा का उपचार डॉक्‍टरी परामर्श से ही करवाना बेहतर होता है, लेकिन अस्‍थमा को नियंत्रित करने के लिये कुछ कारगर घरेलू उपचार भी हैं। ये उपाय काफी लाभदायक होते हैं। आइए जानें ऐसे ही कुछ घरेलू उपायों के बारे में।

 उपचार नं 1
अदरक और लहसुन


अदरक और लहसुन दोनों ही अस्‍थमा के इलाज में फायदेमंद होते हैं। अस्‍थमा की शुरुआती अवस्‍था में 30 मिली दूध में लहसुन की पांच कलियां उबाल कर इस मिश्रण का रोजाना सेवन करने से लाभ मिलता है। इसके अलावा अदरक की गर्म चाय में लहसुन की दो कलियां मिलाकर सुबह-शाम पीकर भी अस्‍थमा को नियंत्रित किया जा सकता है।

उपचार नं 2
अजवाइन


आधा कप अजवाइन का रस और इसमें उतनी ही मात्रा में पानी मिलाकर सुबह और शाम भोजन के बाद लेने से अस्‍थमा नष्ट हो जाता है। अस्‍थमा से बचाव के लिए अजवाइन के पानी से भाप लेना भी फायदेमंद होता है। इसके लिए पानी में अजवाइन डालकर इसे उबालें और पानी से उठती हुई भाप को लें। इससे श्वास-कष्ट में तुरंत राहत मिलती है।

ऊपचार नं 3
शहद


शहद को अस्‍थमा में काफी लाभदायक माना जाता है। शहद बलगम को ठीक करता है, जो अस्‍थमा की परेशानी पैदा करता है। अस्‍थमा का अटैक आने पर शहद को सूंघने से भी लाभ मिलता है। इसके अलावा दिन में तीन बार एक गिलास गुनगुने पानी के साथ शहद मिलाकर पीने से अस्‍थमा में निश्चित रूप से लाभ मिलता है।

ऊपचार नं 4
सहजन की पत्तियां


सहजन की पत्तियों को पानी में करीब 5 मिनट तक उबाल कर छान लें। मिश्रण को हल्‍का सा ठंडा होने पर उसमें चुटकी भर नमक, एक चौथाई नींबू का रस और काली मिर्च का पाउडर मिलाकर पियें। इस तरह का काढ़ा अस्‍थमा के लिए बढि़या इलाज माना जाता है।

उपचार नं 5
मेथी


शरीर की भीतरी एलर्जी को दुरुस्‍त करने में मेथी काफी सहायक होती है। मेथी के कुछ दानों को एक गिलास पानी के साथ तब तक उबालें जब तक पानी एक तिहाई न हो जाए। इस पानी में शहद और अदरक का रस मिला कर रोज सुबह-शाम सेवन करें। आपको निश्‍चित लाभ होगा। अस्‍थमा के मरीज मेथी का यूं भी सेवन कर सकते हैं।

उपचार नं 6
योग


अस्‍थमा से पीड़ित व्‍यक्ति को योगासन और प्राणायाम का अभ्‍यास करना चाहिए। इसके लिए सुबह के समय रीढ़ की हड्डी को सीधे रखकर खुली और साफ स्वच्छ हवा में सांस लेनी और छोड़नी चाहिए। इससे भोजन ठीक प्रकार हजम होगा और शरीर को पूरी ऊर्जा मिलेगी। इससे फेफड़े और श्‍वसन प्रक्रिया भी दुरुस्‍त होती है।


उपचार नं 7
सूखा अंजीर


अंजीर एक ऐसा फल है जो जितना मीठा है उतना ही लाभदायक भी होता है। अंजीर के सूखे फल बहुत गुणकारी होते हैं। यह कफ को जमने से भी रोकते हैं। सूखी अंजीर को गर्म पानी में रातभर भिगो कर रख दें। सुबह खाली पेट इसे खा लें। ऐसा करने से श्वास नली में जमा बलगम ढीला होकर बाहर निकलता है। और इससे संक्रमण से भी राहत मिलती है।


उपचार नं 8
करेला


करेला पोषक गुणों से भरपूर होता है। इससे अस्‍थमा का भी असरदार इलाज होता है। करेला का एक चम्‍मच पेस्‍ट शहद और तुलसी के पत्‍ते के रस के साथ मिला कर खाने से अस्‍थमा में फायदा होता है। साथ ही इससे अंदर की एलर्जी से भी राहत मिलती है।


उपचार नं 9
हरी सब्जियां


अस्‍थमा से पी‍ड़‍ित लोगों को भोजन को धीरे-धीरे, अच्‍छे से चबाकर और अपनी क्षमता से कम खाना चाहिए। कम से कम आठ से दस गिलास पानी प्रतिदिन पीना चाहिए। आहार में कार्बोहाइड्रेट चिकनाई एवं प्रोटीन जैसे पदार्थों को कम से कम और ताजे फल, हरी सब्जियां तथा अंकुरित चने जैसे क्षारीय खाद्य पदार्थों को भरपूर मात्रा में लेना चाहिए।



उपचार नं 10
तेल की मालिश


अस्‍थमा होने पर छाती और रीढ़ की हड्डी पर सरसों के तेल में कपूर मिलाकर मालिश करनी चाहिए। मालिश करने के कुछ देर बाद स्‍टीमबॉथ भी करना चाहिए। ऐसा प्रतिदिन करने से कुछ ही दिनों में अस्‍थमा में आराम मिलने लगता है।

Wednesday, March 8, 2017

Menstrual problems

Menstrual problems




What is the painful menstruation?


In the pain of the menstrual cycle, there is cramped pain in the lower abdomen. A woman may have severe pain that comes and goes, or can cause pain in the stomach. These can cause back pain. Pain can start several days before and it can happen even before menstruation. It usually ends when menstrual bleeding decreases.
What treatment can you do on home painful menstruation?


The following treatment may be that you can save on prescription drugs.

(1) Heat the lower part of your abdomen (below the navel). Keep in mind that the baking pads are not kept in sleep. (2) Take a bath with warm water. (3) Drink hot drinks only. (4) Massage the round goal with the fingers of your fingers around the lower abdomen. (5) Take a walk or exercise regularly and exercise the range in it. (6) Foods full of mixed carbohydrates such as whole grains, fruits and vegetables, but the amount of salt, sugar, alcohol and caffeine in it will be reduced. (7) Eat lightly but at some intervals. (8) Use relaxation techniques such as meditation or yoga. (9) Lay your legs high when you lie down or bend the knees and sit on one side


What are the symptoms of the condition before menstruation?


Prior to menstruation (PMS) symptoms, the relationship of symptoms is done only by menstrual cycle. Generally these symptoms start 5 to 11 days before menstruation. On the start of menstruation, the symptoms usually stop or stop after some time. These symptoms include headaches, swelling in the legs, back pain, tingling in the stomach, looseness of the breasts or feeling of flowering.

PMS What are the causes of the disease (before menstruation)?


PMS The reason for this could not be known. It is mostly done in women of 20 to 40 years, a mother of a child or whose family has been under any pressure, or because of pressure from the first child, a woman has been sick - she has them.
How can PMS (Pre-menstrual disease) be treated at home?
Self-treatment of PMS is included- (1) Regular Exercise - 20 minutes to half an hour per day, including fast walking and cycling. (2) Dietary measures can be beneficial for enhancing whole grains, vegetables and fruits and reducing salt, sugar and coffee or shutting down completely. (3) Make a daily diary or keep a daily record of how the symptoms were, how fast and how long it remained. Keep diaries of symptoms for at least three months. This will help the doctor not only to get the correct diagnosis, but also help in the proper treatment method. (4) Appropriate relaxation is also important.

When should you consult a doctor for painful menstruation?

If self-treatment is not correct for three months or if there is a large blood clot, then the doctor should consult. If the pain begins more than five days before the menstruation and after the menstruation, then the doctor should also go.


What are the symptoms of the condition before menstruation?

Prior to menstruation (PMS) symptoms, the relationship of symptoms is done only by menstrual cycle. Generally these symptoms start 5 to 11 days before menstruation. On the start of menstruation, the symptoms usually stop or stop after some time. These symptoms include headaches, swelling in the legs, back pain, tingling in the stomach, looseness of the breasts or feeling of flowering.

PMS What are the causes of the disease (before menstruation)?
PMS The reason for this could not be known. It is mostly done in women of 20 to 40 years, a mother of a child or whose family has been under any pressure, or because of pressure from the first child, a woman has been sick - she has them.
How can PMS (Pre-menstrual disease) be treated at home?
Self-treatment of PMS is included- (1) Regular Exercise - 20 minutes to half an hour per day, including fast walking and cycling. (2) Dietary measures can be beneficial for enhancing whole grains, vegetables and fruits and reducing salt, sugar and coffee or shutting down completely. (3) Make a daily diary or keep a daily record of how the symptoms were, how fast and how long it remained. Keep diaries of symptoms for at least three months. This will help the doctor not only to get the correct diagnosis, but also help in the proper treatment method. (4) Appropriate relaxation is also important.

माहवारी सम्बन्धी समस्याएं


माहवारी सम्बन्धी समस्याएं




पीड़ा दायक माहवारी क्या होती है?


पीड़ा दायक माहवारी मे निचले उदर में ऐंठनभरी पीड़ा होती है। किसी औरत को तेज दर्द हो सकता है जो आता और जाता है या मन्द चुभने वाला दर्द हो सकता है। इन से पीठ में दर्द हो सकता है। दर्द कई दिन पहले भी शुरू हो सकता है और माहवारी के एकदम पहले भी हो सकता है। माहवारी का रक्त स्राव कम होते ही सामान्यतः यह खत्म हो जाता है।
पीड़ादायक माहवारी का आप घर पर क्या उपचार कर सकते हैं?


निम्नलिखित उपचार हो सकता है कि आपको पर्चे पर लिखी दवाओं से बचा सकें।

 (1) अपने उदर के निचले भाग (नाभि से नीचे) गर्म सेक करें। ध्यान रखें कि सेंकने वाले पैड को रखे-रखे सो मत जाएं। (2) गर्म जल से स्नान करें। (3) गर्म पेय ही पियें। (4) निचले उदर के आसपास अपनी अंगुलियों के पोरों से गोल गोल हल्की मालिश करें। (5) सैर करें या नियमित रूप से व्यायाम करें और उसमें श्रेणी को घुमाने वाले व्यायाम भी करें। (6) साबुत अनाज, फल और सब्जियों जैसे मिश्रित कार्बोहाइड्रेटस से भरपूर आहार लें पर उसमें नमक, चीनी, मदिरा एवं कैफीन की मात्रा कम हो। (7) हल्के परन्तु थोड़े-थोड़े अन्तराल पर भोजन करें। (8) ध्यान अथवा योग जैसी विश्राम परक तकनीकों का प्रयोग करें। (9) नीचे लेटने पर अपनी टांगे ऊंची करके रखें या घुटनों को मोड़कर किसी एक ओर सोयें।


माहवारी से पहले की स्थिति के क्या लक्षण हैं?

माहवारी होने से पहले (पीएमएस) के लक्षणों का नाता माहवारी चक्र से ही होता है। सामान्यतः ये लक्षण माहवारी शुरू होने के 5 से 11 दिन पहले शुरू हो जाते हैं। माहवारी शुरू हो जाने पर सामान्यतः लक्षण बन्द हो जाते हैं या फिर कुछ समय बाद बन्द हो जाते हैं। इन लक्षणों में सिर दर्द, पैरों में सूजन, पीठ दर्द, पेट में मरोड़, स्तनों का ढीलापन अथवा फूल जाने की अनुभूति होती है।

पी.एम.एस. (माहवारी से पहले बीमारी) के कारण क्या हैं?


पी.एम.एस. का कारण जाना नहीं जा सका है। यह अधिकतर 20 से 40 वर्षों की औरतों में होता है, एक बच्चे की मां या जिनके परिवार में कभी कोई दबाव में रहा हो, या पहले बच्चे के होने के बाद दबाव के कारण कोई महिला बीमार रही हो- उन्हें होता है।
पी.एम.एस (माहवारी के पहले की बीमारी) का घर पर कैसे इलाज हो सकता है?
पी.एम.एस के स्व- उपचार में शामिल है- (1) नियमित व्यायाम - प्रतिदिन 20 मिनट से आधे घंटे तक, जिसमें तेज चलना और साईकिल चलाना भी शामिल है। (2) आहारपरक उपाय साबुत अनाज, सब्जियों और फलों को बढ़ाने तथा नमक, चीनी एवं कॉफी को घटाने या बिल्कुल बन्द करने से लाभ हो सकता है। (3) दैनिक डायरी बनायें या रोज का रिकार्ड रखें कि लक्षण कैसे थे, कितने तेज थे और कितनी देर तक रहे। लक्षणों की डायरी कम से कम तीन महीने तक रखें। इससे डाक्टर को न केवल सही निदान ढ़ंढने मे मदद मिलेगी, उपचार की उचित विधि बताने में भी सहायता मिलेगी। (4) उचित विश्राम भी महत्वपूर्ण है।

पीड़ादायक माहवारी के लिए डाक्टर से कब परामर्श लेना चाहिए?

यदि स्व-उपचार से लगातार तीन महीने में दर्द ठीक न हो या रक्त के बड़े-बड़े थक्के निकलते हों तो डाक्टर से परामर्श लेना चाहिए। यदि माहवारी होने के पांच से अधिक दिन पहले से दर्द होने लगे और माहवारी के बाद भी होती रहे तब भी डाक्टर के पास जाना जाहिए।


माहवारी से पहले की स्थिति के क्या लक्षण हैं?

माहवारी होने से पहले (पीएमएस) के लक्षणों का नाता माहवारी चक्र से ही होता है। सामान्यतः ये लक्षण माहवारी शुरू होने के 5 से 11 दिन पहले शुरू हो जाते हैं। माहवारी शुरू हो जाने पर सामान्यतः लक्षण बन्द हो जाते हैं या फिर कुछ समय बाद बन्द हो जाते हैं। इन लक्षणों में सिर दर्द, पैरों में सूजन, पीठ दर्द, पेट में मरोड़, स्तनों का ढीलापन अथवा फूल जाने की अनुभूति होती है।

पी.एम.एस. (माहवारी से पहले बीमारी) के कारण क्या हैं?
पी.एम.एस. का कारण जाना नहीं जा सका है। यह अधिकतर 20 से 40 वर्षों की औरतों में होता है, एक बच्चे की मां या जिनके परिवार में कभी कोई दबाव में रहा हो, या पहले बच्चे के होने के बाद दबाव के कारण कोई महिला बीमार रही हो- उन्हें होता है।
पी.एम.एस (माहवारी के पहले की बीमारी) का घर पर कैसे इलाज हो सकता है?
पी.एम.एस के स्व- उपचार में शामिल है- (1) नियमित व्यायाम - प्रतिदिन 20 मिनट से आधे घंटे तक, जिसमें तेज चलना और साईकिल चलाना भी शामिल है। (2) आहारपरक उपाय साबुत अनाज, सब्जियों और फलों को बढ़ाने तथा नमक, चीनी एवं कॉफी को घटाने या बिल्कुल बन्द करने से लाभ हो सकता है। (3) दैनिक डायरी बनायें या रोज का रिकार्ड रखें कि लक्षण कैसे थे, कितने तेज थे और कितनी देर तक रहे। लक्षणों की डायरी कम से कम तीन महीने तक रखें। इससे डाक्टर को न केवल सही निदान ढ़ंढने मे मदद मिलेगी, उपचार की उचित विधि बताने में भी सहायता मिलेगी। (4) उचित विश्राम भी महत्वपूर्ण है।